गुरु मात पिता, गुरु बंधु सखा, Hindi Guru Bhajan Lyrics

Guru Bhajan गुरु मात पिता गुरु बंधु सखा

गुरु मात पिता, गुरु बंधु सखा

तेरे चरणों में स्वामी मेरे कोटि प्रणाम

प्रियताम तुम्ही, प्राणनाथ तुम्ही,

तेरे चरणों में स्वामी, मेरे कोटि प्रणाम


तुम ही भक्ति हो, तुम ही शक्ति हो

तुम ही मुक्ति हो, मेरे सांब शिवा


तुम ही प्रेरणा, तुम ही साधना

तुम ही आराधना, मेरे सांब शिवा


तुम ही प्रेम हो, तुम ही करुणा हो

तुम ही मोक्ष हो, मेरे सांब शिवा


गुरु मात पिता, गुरु बंधु सखा

तेरे चरणों में स्वामी मेरे कोटि प्रणाम

प्रियताम तुम्ही, प्राणनाथ तुम्ही,

तेरे चरणों में स्वामी, मेरे कोटि प्रणाम

Anisha
Views: 3475



blog comments powered by Disqus



Braj bhajan, Jadoo bharee Mohan ki muraliya, Lyrics and meaning

Find us on Facebook