Holi song by Hindustani sangeet exponent Ashwini Bhide Deshpande

सकल ब्रज धूम मची हां हां री

के खेलें श्याम होरी, गिरधारी बनवारी,

विपिन बिहारी, मुरारी बनवारी

कृष्णः जी प्यारे, नंद को लाल,

नंद को लाल, जी नंद को लाल…

ग्वाल बाल संग करत कोलाहल

मारी पिचकारी, भरत पिचकारी

रंग्यो रे राधा प्यारी

सकल ब्रज धूम मची हां हां री

radha krishna painting close up

सर से पग तक रंग में भीगी

कोई कैसे जाने कौन राधा गोरी

दो नैना रसीले, शर्मीले, कजरीले

तिरछीले, सकुचीले, निहारे बनवारी

सकल ब्रज धूम मची हां हां री

Indian Pahari painting, Krishna playing holi

Anisha
Views: 16212



blog comments powered by Disqus



Sri Banke Bihari Arti and verses, Bhakti yoga