हनूमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रनाम। राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम Sundarkand Video #Hanuman ji


लंका की ओर जाते समय हनुमान्‌जी को मैनाक पर्वत ने थोड़ी देर अपने ऊपर विश्राम करने का आमंत्रण दिया | भक्ति और कर्मनिष्ठा से भरे हुए हनुमान जी ने पर्वत को हाथ से छू कर प्रणाम किया और कहा- श्री रामचंद्रजी का काम किए बिना मुझे विश्राम कहाँ?
-In Sundarkand, Sri Ram Charitmanas by Goswami Tulsidas ji of Uttar Pradesh, India
हनूमान तेहि परसा कर पुनि कीन्ह प्रनाम। राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम Sundarkand Video #Hanuman ji
anisha
Views: 6854



blog comments powered by Disqus



Starting a herb garden? Giloi is the easiest to grow in the rainy season in India