नामु सप्रेम जपत अनयासा। भगत होहिं मुद मंगल बासा॥


नामु सप्रेम जपत अनयासा। भगत होहिं मुद मंगल बासा॥
भक्तगण प्रेम के साथ नाम का जप करते हुए सहज ही आनन्द और कल्याण के घर हो जाते हैं॥
#Jai Sri Ram #Jai Hanuman
नामु सप्रेम जपत अनयासा। भगत होहिं मुद मंगल बासा॥
Views: 633



blog comments powered by Disqus



Driving from Dhanaulti to Harshil via Uttarkashi in May, Himalayan Traveller